A Wife of Army

Madhusudan Singh

Image credit :Google
मेरे दिल में वे बसते,उनके दिल भारत बसता है।
फौजी की पत्नी हूँ मेरे,दिल में दो दिल बसता है।
जख्मी हो भारत तो आँखें,
दर्द बयाँ कर जाती है,
जख्मी हों वे सरहद पर तो,
बहुत उदासी छाती है,
सबकी नींद है आँखों में,
मेरी आँखों में नींद कहाँ,
उनके दिल से दिल मेरा,साँसों से साँसे चलता है,
फौजी की पत्नी हूँ मेरे दिल में दो दिल रहता है।
खबर मिली आतंकी ने,
सैनिक पर हमला कर डाला,
उनकी ड्यूटी जहां खबर में,
उस चौकी का नाम आया,
नाम नहीं संदेशे में कई घायल,
चार शहीद हुए,
प्राण नहीं थे तन में संग,
घरवाले भी ग़मगीन हुए,
दिन गुजर गए उहापोह में,
रात भी मानो दिन हुयी,
मेरे संग मम्मी पापा की,
आँखें भी ग़मगीन हुुई,
रात अचानक फोन बजी,
उनकी आवाज सुनायी दी,
कैसे कह दें हम सब कितने,
रब को आज दुहाई दी,
मगर बज्र…

View original post 610 more words

12 thoughts on “A Wife of Army

  1. I agree with you. It’s so amazing to have wonderful and talented friends like you. 😊😊🥰

    Like

  2. आपने मेरी कविता पढ़ा,सराहा एवं रिब्लॉग किया उसके लिए बहुत बहुत धन्यवाद।🙏

    Like

  3. Thank you so much, dear. How are you feeling now? I was unable to open your story. I will definitely read it and get back to you. Meanwhile, lots of love, hugs, kisses, coffees, flowers, smiles, happiness and great fun and joy. 😊😊😘😘😘🥰🥰🥰😍😍

    Like

  4. You are welcome, dear Aparna.
    Thank’s God better, every day. I am still with medicine. No fever.
    Thank you very much dear, don’t worry. I know you are going to do it. I am so glad for your kindness and support always. 🙏🏻😊🥰😍😘🥰😍😘🥰😍😘🙏🏻😊😊 Lots of love, hugs kisses, smiles coffee, cakes, fun, smiles, happiness and fun, too.
    Keep well.

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s